Spread the love

क्यों मनाते हो २६ जनवरी?….What is 26th January Celebrated as in India

Written by – feelbywords
२६ जनवरी इस दिन छुट्टी तो हम सब मनाते है | पर क्या आपको पता है इस दिन का इतिहास क्या है ? आखिर क्यों मनाते हो २६ जनवरी?

भारत देश के एक जागरूक नागरिक हो ? ……. तो २६ जनवरी के इस राष्ट्रीय पर्व के बारे में तो आपको पता ही होना चाहिए | ज़रा सोचिए कभी आपके छोटे भाई-बहन या आपके बच्चों ने आपसे कभी पहुंच लिया की आखिर क्यों  मनाते हो २६ जनवरी तो आप क्या जवाब दोगे?… क्या उनके सामने शर्मिंदा होना पसंद करोगे ? और अपना मज़ाक बनता देखना पसंद करोगे?…….

“अरे……. देखो ये इतने बड़े हो गए पर इन्हें २६ जनवरी का इतिहास नहीं पता !”

जब ऐसा व्यंग आप पर कसा जायेगा तब आपको शायद पछतावा होगा की आपने बचपन में इतिहास विषय पर ध्यान क्यों नहीं दिया!!!!!

पर अभी वक़्त गुजरा नहीं है | आप पर भविष्य में होने वाले इस व्यंग से मैं आपको आज और अभी बचा सकता हूँ |

तो चलिए करते है आपकी मदद और ले चलते है आपको २६ जनवरी के इतिहास में |

What Is 26th January Celebrated As

image src – Shaurya Singh From Pixabay What Is 26th January Celebrated As

वर्ष १९४६  भारत के स्वातंत्र्य की गाथा समाप्त हुई इसके बाद भी हमारे देश की मुश्किलें कम नहीं हुई थी और आगे एक मुश्किल हमारे सामने ही खड़ी थी | ये मुश्किल थी एक संविधान की कमी | हर देश को सुचारु रूप से चलने हेतु जरूरत होती है एक संविधान की और हमें हमारे देश में स्वराज्य को पूर्ण रूप से प्रस्थापित करने हेतु इस संविधान की कड़ी आवश्यकता थी

परंतु हमारे देश में मेहनती, हुनरमंद, और महान लोगों की कोई कमी नहीं थी | ये वही महान लोग थे जिन्होंने हमारे देश को बनाने में अपने खून पसीना एक कर दिया | तो बस देरी किस बात की थी …. हमारे देश में पूर्णता गणतंत्र को प्रस्थापित करने के लिए इन्हीं महान लोगों ने कदम बढ़ाना शुरू कर दिया और शुरु वात हुई स्वतंत्र भारत के संविधान निर्मिती की |

६ दिसम्बर १९४६ को संविधान सभा संगठित हुई | और इस सभा का अध्यक्ष पद सौंपा गया डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी को |

इस संविधान सभा में अनेक प्रांत और राज्यों के प्रतिनिधियों को शामिल किया गया |इन प्रतिनिधियों की संख्या थी २९९ |

इस संविधान सभा में अनेक समितियाँ बनाई गयी थी | ऐसी ही एक महत्वपूर्ण समिति का अध्यक्ष पद भारत रत्न डॉ. बी. आर. आंबेडकर जी को सौंपा गया था | इस समिति का कम संविधान का मसौदा (draft) तैयार करना था |

क्या जानते हो भारत का संविधान तैयार करने में कितना समय लगा था ? … नहीं! चलो मैं बताता हु …..

भारत रत्न डॉ. बी. आर. आंबेडकर जी इनकी अध्यक्षता में इस समिति ने संविधान तैयार करने के लिए २ साल ११ महीने और १७ दिन लिए और २६ नवम्बर १९४९ के दिन संविधान सभा ने यह संविधान स्वीकार किया | इसलिए २६ नवम्बर यह दिन संविधान दिन करके मनाया जाता है |

 

अब तो आपको पता चल गया होगा की संविधान बनाने में कितना समय लगा! और इस जवाब के साथ-साथ आपको यह भी पता चल गया की आखिर २६ नवम्बर को “संविधान दिन” क्यों मनाया जाता है ?

इसका अर्थ की मैंने आपको एक बोनस उत्तर भी दे दिया है|

अरे….अरे  चिंता मत कीजिए ज्यादा अपनी तारीफ नहीं करूँगा और आपको आज के विषय से भटकने भी नहीं दूंगा |

History of 26th January in India

image src Aamir Mohd Khan From Pixabay History of 26th January in India

तो चलिए लेकर चलते है आपको इतिहास में थोड़ा आगे

२६ जनवरी १९५० के दिन यह संविधान पूरे भारत में लागू किया गया और अब भारत में गणतंत्र को पूर्ण रूप से प्रस्थापित कर दिया गया था | भारत देश अब अपने संविधान से चलने वाला देश बन गया था |

तो बताइये कैसा लगा आपको अपने देश के इस राष्ट्रीय पर्व के बारे में जानकर |

अब आप जान चुके है की हम हर साल २६ जनवरी यह पर्व क्यों मनाते है |

अब यदि आपके छोटे भाई-बहन या आपके बच्चे आपसे कभी पूछेंगे के “आखिर क्यों मनाते है हम २६ जनवरी ?” 

तो आप उनका जवाब देने मैं सक्षम होंगे और इसका उत्तर देने के बाद आप उनके सामने काफी बुद्धिमान साबित हो जायेंगे |

अरे…अरे अभी से खुद को इतना बुद्धिमान समझ ने की जरूरत नहीं है |

अभी मुझे भी अपनी थोड़ी बुद्धिमत्ता दिखाकर जाओ मित्र | निचे पूछे गए सवाल का Comment Box मैं सही-सही जवाब देना तब ही मैं मानूंगा की आप सत्य मैं एक बुद्धिमान व्यक्ति है |

सवाल: भारत का संविधान तैयार करने में कितना समय लगा था?

और हां अगले साल २६ जनवरी को सिर्फ छुट्टी के रूप में मत मनाना साथ में इसका इतिहास भी याद रखना |

जय हिंद ………………जय भारत!

हमारा Article”what is 26th january celebrated as(history of 26th january in india)” आपको कैसा लगा हमें अवश्य बताए और यदि आप जानना चाहते है |

आपके एक ऐसे दोस्त के बारे में जो आपको बेहद करीब से जानता है परंतु आप ने कभी उस के बारे में सोचा तक नहीं तो यह Article आपका सबसे अच्छा दोस्त “आपका तकिया (pillow).”

ज़रूर पढ़े और क्या आप जानते है के

आपके प्यारे चंदा मामा का जन्म कैसे हुआ? तो यह Article क्या हुआ जब जन्म हुआ चाँद का ? ज़रूर पढ़े

feelbywords.com के साथ जुड़े रहने के लिए हमारे Social Media Facebook, Instagram को ज़रूर Follow करें


Spread the love

1 Comment

Surbhi · March 27, 2022 at 4:04 pm

Some like Sunday,
Some like Monday,
But I like One Day
And that is Republic Day

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.